COMPUTER

Computer Memory Kya Hai Our Ye Kitne Tarah Ki Hoti Hai – कंप्यूटर मेमोरी क्या है और यह कितने प्रकार की होती है

Computer Memory Kya Hai Our Ye Kitne Tarah Ki Hoti Hai - कंप्यूटर मेमोरी क्या है और यह कितने प्रकार की होती है
Written by j9q4y

नमस्कार दोस्तों कैसे हैं आप आज मैं आपके लिए बिल्कुल एक नई जानकारी के साथ दोबारा फिर से उपस्थित हू दोस्तों जब हम नया कंप्यूटर या लैपटॉप खरीदने जाते हैं तो हम सबसे पहले उसकी मेमोरी के बारे में पूछते हैं हम वही कंप्यूटर लेना ज्यादा पसंद करते हैं जिसके मेमोरी ज्यादा अच्छी होती है लेकिन दोस्तों क्या आप यह जानते हैं कि कंप्यूटर के मेमोरी क्या होती है अगर नहीं जानते तो कोई बात नहीं आज इस आर्टिकल को पढ़ने के बाद मे आपको कंप्यूटर मेमोरी के बारे में पूरी जानकारी मिल जाएगी आज हम आपको कंप्यूटर मेमोरी के बारे में सारी जानकारी देने जा रहे हैं बस बने रहें पूरी पोस्ट के आखरी तक ।

कंप्यूटर मेमोरी क्या है ?

दोस्तों जैसे हम इंसानों का अपना खुद का मस्तिष्क होता है बिल्कुल वैसे ही कंप्यूटर कभी अपना एक मस्तिष्क होता है जिसको हम मेमोरी कहते हैं जिस प्रकार हम सभी चीजें याद रखने के लिए अपने मस्तिष्क का इस्तेमाल करते हैं उसी प्रकार कंप्यूटर भी इंफॉर्मेशन ऑफ डाटा को याद रखने के लिए मेमोरी का इस्तेमाल करता है हम अपने कंप्यूटर में जितनी भी इंफॉर्मेशन और डाटा डालते हैं वह कंप्यूटर की मेमोरी ना सिर्फ सेव होती है और वक्त आने पर वह हमें द्वारा आसानी से प्राप्त हो जाती हैं ।दोस्तों अगर हम सरल शब्दों में समझें तो जिस प्रकार मनुष्य के पास उसका मस्तिष्क होता है उसी प्रकार कंप्यूटर के पास उसकी मेमोरी होती है।

कंप्यूटर मेमोरी के प्रकार

दोस्तों कंप्यूटर की मेमोरी के मुंह के 3 भाग होते हैं अब आइए हम विस्तार से इन तीनों भागों के बारे में जानते हैं

cache मेमोरी

दोस्तों यह कंप्यूटर की बहुत ही फास्ट मेमोरी होती है इसे हम सेमीकंडक्टर मेमोरी भी कहते हैं दोस्तों इस प्रकार के मेमोरी सीपीयू और मेन मेमोरी की स्पीड को बढ़ाने में काम आती है जब सीपीयू में बार-बार इस्तेमाल किया जाने वाला डाटा और प्रोग्राम के भाग को हम यहीं पर स्टाल करते हैं दोस्तों कैश मेमोरी के भी कुछ फायदे और कुछ नुकसान भी होते हैं आइए इन के फायदे और नुकसान के बारे में चर्चा करें ।

Cache मेमोरी के नुकसान

Cache मेमोरी बहुत ही महंगी आती है ।

Cache मेमोरी की कुछ लिमिट होती है तथा इसके कुछ सीमाएं होती हैं जिस से ज्यादा यह अपने अंदर स्टोर नहीं करती है और अगर आप इससे ज्यादा स्टोर करने की कोशिश करती है और तो सिस्टम हैंग करने लगता है ।

Cache मेमोरी के फायदे ।

Cache मेमोरी की स्पीड मुख्य मेमोरी से बहुत तेज होती है ।

Cache मेमोरी द्वारा कम समय सीमा के लिए डाटा स्टोर होता है ।

Cache मेमोरी में जुड़ा टेक्स्ट एक्सेस बहुत‌‌ कम‌ समय मे हो‌ जाता है‌

प्राइमरी मेमोरी

दोस्तों हम वर्तमान समय में जो भी कंप्यूटर में काम करते हैं तथा कुछ तुरंत समय के लिए डाटा स्टोर करने के लिए जिस मेमोरी का इस्तेमाल करते हैं उसको हम प्राइमरी मेमोरी कहते हैं एक बार हमारा काम पूरा होने के बाद में यह मेमोरी से अपने आप डिलीट हो जाती है जब अचानक हमारे सिस्टम का पावर ऑफ होता है अभी पावर ऑन होता है तब यह मेमोरी पूरी तरह से खत्म हो जाती है इस प्रकार के मेमोरी की अपनी एक कैपेसिटी लिमिट होती है इस मेमोरी में डाटा को हमेशा के लिए स्टोर नहीं किया जा सकता है ।

प्राइमरी मेमोरी की विशेषताएं

  • सेकेंडरी मेमोरी की तुलना में प्राइमरी मेमोरी बहुत तेज काम करती है ।
  • पावर ऑन या पावर ऑफ होने पर इसका सारा डाटा अपने आप डिलीट हो जाता है ।
  • इसको मेन मेमोरी भी कहा जाता है ।
  • यह एक वर्किंग मेमोरी होती है जो कंप्यूटर में काम करने वाली मेमोरी होती है ।
  • प्राइमरी मेमोरी के कुछ उदाहरण जैसे रैम और रोम होते हैं ।

सेकेंडरी मेमोरी

दोस्तों सेकेंडरी मेमोरी को इंटरनल मेमोरी कहते हैं अगर मेन मेमोरी से इसकी तुलना करें तो यह मेन मेमोरी से धीमी होती है इसका उपयोग मुख्य रूप से परमानेंट डाटा स्टोर करने के लिए किया जाता है । सीपीयू में इस मेमोरी का सीधा उपयोग करने के बजाय हम इनपुट और आउटपुट द्वारा इस मेमोरी को एक्सेस करते हैं इसका प्रयोग बैकअप मेमोरी के रूप में भी होता है अगर पावर ऑफ हो जाता है तो इस प्रकार के मेमोरी स्टोर मे सेव रहती है इस प्रकार की मेमोरी में हम बहुत ज्यादा डाटा सेव कर सकते हैं ।

इसके दो प्रकार होते हैं हार्ड डिस्क तथा ऑप्टिकल डिस्क

तो दोस्तों आज किस आर्टिकल के माध्यम से हमने कंप्यूटर मेमोरी तथा उसके मुख्य भागों के बारे में बताया है साथ ही उनकी मेमोरी की विशेषताएं और उनके फायदे और नुकसान के बारे में भी चर्चा की ऐसी और जानकारी पाने के लिए हमारे साथ बने रहे बहुत-बहुत धन्यवाद ।

About the author

j9q4y

Leave a Comment